Posted by
Nishesh Wasav

SOLD Rs.300


Novel

आग्रह है इस पोस्ट को शेयर करें ! जिन दोस्तों ने मेरे उपन्यास आखिरी ट्रेन में अपनी रूचि दिखाते हुये इसे मंगवाया है l उनको हृदय से धन्यवाद देता हूँ ! जो मित्र अब तक उपन्यास नहीं मंगवा पये हैं, उनसे यह उमीद रखता हूँ कि वह उपन्यास आखिरी ट्रेन मंगवाये और पढ़ें ! उमीद करता हूँ कि आखिरी ट्रेन की सवारी, आपके लिये यादगार साबीत होगी ! हंसना, रोना, प्रेम, बिछड़न, चिन्तन, बेचैनी, सकून सब तरह के मुसाफिर आपको मिलेंगे इस आखिरी ट्रेन के सफ़र में ! दोस्तों आप सबों के प्यार और साथ के लिये, आप सबों का तहे-दिल से शुक्रिया करता हूँ !! उपन्यास मंगवाने के लिये आप इन सब site पर जा कर order कर सकतें हैं l white falcon publication store, amazon, flipkart, shopclues. उपन्यास को aakhiree- train by nishesh wasav के नाम से search किया जा सकता है l इन लिंक पर जा कर भी उपन्यास ऑडर किया जा सकता है l अपील है,गुजारिश है कि ऑडर करें ! http://store.self-publish.in/collections/latest-books/products/aakhiree-train
http://www.amazon.in/dp/9386210657
https://www.flipkart.com/aakhiree-train/p/itmerew8hwmajmmv?pid=9789386210654
http://www.shopclues.com/aakhiree-train.html कुछ खास झलकिंयां उपन्यास के आप सबों के साथ साझा करना चाहता हूँ l ##इस उपन्यास का कथानायक आभास एक नवजावान, जो आज के समय में भी हर तरह से सम्पन्न है l आभास पटना शहर में बैंक पी ओ की तैयारी कारता है l यदय्पि वह इस पढ़ाई को करता होता है, पर इसमें उसकी कोई खास दिलचस्पी नहीं होती है l उसकी आत्मा अपने देश और देशवासियों को आज की परिस्थियों से जुझते देख, बड़ी उद्विगन और अशान्त रहती है l आभास सिर्फ निजी उन्नति को बेईमानी मानता है l वह देशहित और लोगों की सेवा करने की हसरत लिये जीता है l आभास की मुलाकात कथानायिका जिया से उस दिन की मोतिहारी से पटना जाने वाली आखिरी ट्रेन में होती है l जिया भी पटना शहर में ही बैंक पी ओ की तैयारी करती है l आभास ज़ितना सम्पन्न ज़िया उतनी ही दीन-हीन l ट्रेन में हुई दोस्ती, गुज़रते समय के साथ बहुत ही गहरी हो जाती है l किन्हीं कारणों से वे कालान्तर में एक-दूसरे से अलग हो जातें हैं l समय चक्र के खेल से वे दोनों फिर मिलतें हैं और वक़त की उल्टी चाल से पुन्ह बिछड़ जातें हैं l आभास भी निजी जीवन का परित्याग कर, सार्वजानिक जीवन के पथ को चुन लेता है l कालान्तार में आभास प्रदेश का सबसे युवा मुख्यमंत्री बनता है l सही मायनो में, पूरी पारदर्शिता के साथ सत्ता कैसे चलाई जाती है, इसका जीता-जागता उदाहारण पेश करता है l जिया भी सब छोड़ कर एक लेखिका बन जाती है l उसकी लिखी एक उपन्यास के जारिये दोनों को फिर से एक होने का कैसे मौका मिलता है? आखिरी ट्रेन आप मित्रों को न केवल प्रेम के गलियारों की सैर कराएगी अपितु हमारे बीच उत्पन्न हुए सामाजिक, राजनैतिक और वैचारिक कामियों की ओर आपके हृदय और आत्मा को सोचने पर मजबूर कर देगी ! आपका हृदय कहने पर मजबूर हो जायेगा कि कमी कहां रह गई ! कहां रह गई ! कहां रह गई! और आपकी आत्मा चीखने पर मजबूर हो जयेगी कि अब भी कमी कहां है ! कहां है ! कहां है ! ##हर कोई पढ़ें , यह आग्रह है ! सबों से मदद और साथ की उमीद है ! सभी दोस्तों का बहुत - बहुत धन्यवाद !!

Open in Swapit App